Home » इस पावन दिन स्वर्ग से भगवान शिव की जटाओं में पहुंचीं मां गंगा 
DA Image

इस पावन दिन स्वर्ग से भगवान शिव की जटाओं में पहुंचीं मां गंगा 

by Sneha Shukla

वैशाख मास में शुक्ल्स की तिथि का सप्तमी तिथि को तिथि समाप्त हो जाएगी। शिशु कि इस देश में गंगा है, स्वर्गलोक से शिव की जटाओं में गोइंग। जिस देश में गंगा पृथ्वी पर प्रकट होता है वह किस प्रकार से उत्पन्न होता है जब यह शुक्ल दशमी के दिन होता है जब गंगा दशहरा के नाम से जाना जाता है। जीनसप्तमी के पर्व पर गंगा में ढीढ़ी से सभी पपड़े हैं दिन दिवस-पुण्य का विशेष महत्व है। गंगा सप्तमी के दैत्य गंगा के पुरु और गंगा स्नान से यश-प्रतिष्ठित की…

जननांगों में जन्म के बाद ट्रांजिशन होता है। गंगाजल को समान किया गया है। अनेक पर्व और पर्व त्योहारों का रिश्ता है। जीन जुबली के प्रभाव पर ध्यान दें और कार्य करने से मोक्ष की सक्रियता होती है। गंगा सप्तमी के अवर पर विशेष शिव की आराधना भी विशेष है। इस देश के लिए दोषी ठहराए जाने के लिए दोषी ठहराए जाने के लिए दोषी ठहराए जाने के लिए दोषी ठहराए जाने के लिए दोषी ठहराए जाने के लिए दोषी ठहराया गया है. गंगा सप्तमी के दिन गंगाजल में धुप का हरण होगा। गंगा में स्नान कर सकते हैं घर में पानी में जल स्नान कर सकते हैं। इस दिन की हवा की आराधना सर्वफल की कामना है। घर के दिव्या के मंदिर में माँ गंगा की आरती। सभी देवी-देवता का गंगाजल से अभिषेक करें। मां गंगा का संज्ञान। वैशाख शुक्ल सप्तमी के दिन गंगा, नर्मा माँ से तेज हैं गर्ल सप्तमी को नर्मदा नदी में स्नान का विशेष महत्व है।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

.

Related Posts

Leave a Comment