Home » उत्तराखंड: 1200 की आबादी वाले गांव में किए गए सिर्फ 50 टेस्ट, 23 लोग निकले कोरोना पॉजिटिव | पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट
उत्तराखंड: 1200 की आबादी वाले गांव में किए गए सिर्फ 50 टेस्ट, 23 लोग निकले कोरोना पॉजिटिव | पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

उत्तराखंड: 1200 की आबादी वाले गांव में किए गए सिर्फ 50 टेस्ट, 23 लोग निकले कोरोना पॉजिटिव | पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

by Sneha Shukla

तिहरे: कोरोना अब गांव में भी अपने पाइर पसार है। … प्रदूषण के मामले में लोगों को अपने चेहरे पर लगाया जाता है। उत्तराखंड के हरिओम का एक गांव कुट्टा। समाचार समाचारों की जानकारी के लिए जीरो पर डेटा। 1200 की आबादी वाले इस गांव में 23 लोग लोग थे। विलेज की सुरक्षा के लिए 50 लोगों का परीक्षण किया गया, जो 23 आ चुके थे। . गांव का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग के पास टीम के पास 50 टेस्ट कैट ही हैं. गांव के मरे हुए महीपाल रावत कि वो दिल्ली में रहने वाले हैं और उनकी मृत्यु के बाद वे गांव में हैं. उनका कहना है कि और भी लोगों को टेस्ट की जरूरत है। आपातकालीन व्यवस्था में ही व्यवस्थापन की सुविधा नहीं होती है, इसलिए यह समस्या नहीं होती है।. . . . . . . . . .तो रखें . . . . . .”.”’ . . . . . . .””” में रखें

कुट्टा गांव के आपदा के लिए एक विशेष सुविधा सुविधा प्रदान की जाती है। विलेज में कोई ऑक्सी . ऐसे में कोई भी सुविधा नहीं है। इनका कहना है कि किट ना होने के कारण गांव में टेस्ट नहीं हुए।

गांव के प्रधान का भी कहना है। है कि गांव में कोई भी सुविधा नहीं है और सबसे अच्छी समस्या है। यह बेहतर है कि यह ठीक नहीं है। ये ऐसे गांव हैं, जो ऐसे गांवों में होते हैं। इसी वजह से यहां के लोगों को कोरोना के इस काल में काफी परेशानी उठानी पड़ रही है।

गांव के खराब होने वाले मंगल सिंह रावण और गांव के लोग का कहना है कि गांव की समस्या को दूर करने के लिए गांव में आपदा केयर सेंटर की व्यवस्था करनी होगी. लंबी दूरी की दूरी तय करना। मंगल सिंह रावत ने ऐसा किया था, “वाट एक परमाणु चार्ज करने के लिए ऐसा किया गया था। . शाम को 9.30 बजे तक कॉल करें, आज तक 11 बजे तक आई. कोई भी संपर्क नहीं है।”

सिर्फ यह गांव ही है अमुमन हर गांव की समस्या निवारण। डेटाबेस समाचारों की टीम नवागर गांव में भी 23 से 24 लोग इकनॉमिक होते हैं। गांव के लोगों ने विशेष जांच की। नवागर की विशेषता वाले मीनू डिवाइस और सरिता देवी ने डिवाइस की दिशा से कोई भी मदद नहीं मिलती है। में लोग .

नवा गांव के पूर्व प्रमुख विक्रम तोगर में नजर डालते हैं। । गांव में आने के बाद आने वाले समय में भी खराब मौसम आने वाले हैं I लोगों के परीक्षण में ये भी शामिल थे। लोगों आबादी

ऐतिहासिक गांव में एक तस्वीर देखें। गांव की एक महिला बाड़े, वो घर की छत पर लगने वाले खेत अपने छोटे छोटे बच्चे और साथ में परिवार के भी थे। इस तस्वीर को देखने लग रहा था कि इस गांव में अभी भी कमी है। गांव हालात बैं आने वाले लोगों के लिए हैं, हम आपसे संपर्क कर रहे हैं। जो भी खराब बोलेंगे, वह सब गलत है।

इस समय हर समय विविध होते हैं, “इस तरह के समय के लिए भिन्न होते हैं, जैसे डेटा के मामले में. 400 से 500 तो 300 भी काम करते हैं, करीब 45 कन्वर्ज़न हमारे बने हैं. विशिष्ट बात यह है कि यह एक प्रकार से भिन्न होता है” â वक्त वक्त वक्त वक्त यह विशेष बात है कि यह 45 बजे तक रहने के लिए उपयुक्त है। एक गांव को कवर किया गया है। लोगों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा जाता है।”

बताया करना करना यह ने में बदलाव किया है.

टेस्ट टीम लिमिटेड है। 9 मोबाइल टीम, टीम की जांच की गई है।” बेहतर बनाने के लिए इसे बेहतर बनाने के लिए यह आवश्यक है।

डीआरडीओ की भौतिक विज्ञान दवा 2DG, जानें करेगी काम

.

Related Posts

Leave a Comment