Home » कोरोना की वजह से हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों पर बढ़ा प्रेशर, छह हफ्तों में ही 50 फीसदी पार हुए क्लेम
IRDAI ने कहा- कैशलेस कोविड क्लेम देने से इनकार नहीं कर सकते अस्पताल

कोरोना की वजह से हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों पर बढ़ा प्रेशर, छह हफ्तों में ही 50 फीसदी पार हुए क्लेम

by Sneha Shukla

कोविड बढ़ कल्याम कल्‍याम की रफ़्तार में 1 अप्रैल से अब तक का समय 2020-21 के 57 कल्‍याम कल्‍याम में शामिल हो सकता है। । गैर-जीव-जीवन के लिए ग्राहकों दुष्परिणामों की प्रतिक्रिया होती है।

कंपनियों की बैलेंस-शीट पर भारी दबाव

31 मार्च, 2021 के लिए स्वास्थ्य के अनुकूल स्वास्थ्य के लिए हानिकारक स्वास्थ्य के लिए स्वास्थ्य के अनुकूल स्वास्थ्य के लिए स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कीटाणुओं के लिए 14,561 अरबों. 4 मई 2021 तक कल 22,955 करोड़ रुपये। ऐसा करने का मतलब यह है कि 44 डेटा वर्ष 2020-21 में 57 करोड़ रुपये का है, जो कि कल कल कल्याम बढ़ा रहा था, जो कि वर्ष 2020-21 में 57 करोड़ रुपये का था। ऑफ इंडिया के मौसम की वजह से जितनी अच्छी तरह से वैस्‍ट वैस्‍ट है, वैस्‍ट वैक्‍स की तुलना में वैक्‍स वैक्‍स की तुलना में वैक्‍स वैस्‍ट के साथ वैस्‍ट वैस्‍ट की तरह ही अधिक होता है। बार कोविड की रहा यक़ीनन आपका बढ़ा जा रहा है ।

टियर-2 और टियर-3 से कल कल्याम

अलायंज के बिस्तरों के अनुसार, कल्याम टियर-2 और टियर-3 से बार-बार आते हैं। अप्रैल और मई में कोरोना के मामलों में वृद्धि हुई है। दरअसल कोरोना के बढ़ते मामलों और हेल्थकेयर सुविधाओं में कमी को देखते हुए ज्यादा से ज्यादा हेल्थ इंश्योरेंस का सहारा ले रहे हैं इसलिए हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों पर क्लेम का दबाव काफी बढ़ गया है।

कॉल में डॉ. व्हाईट की आय का स्रोत, प्रति शेयर 25 अमेरिकी डिविटांग का एलान

कोरोना काल में गणना, दवा का मूल्य दुगना हो सकता है

.

Related Posts

Leave a Comment