Home » महाराष्ट्र फिर बना कोरोना कैपिटल: पिछले 24 घंटों में 26 हजार केस दर्ज, इस साल सबसे ज्यादा
महाराष्ट्र फिर बना कोरोना कैपिटल: पिछले 24 घंटों में 26 हजार केस दर्ज, इस साल सबसे ज्यादा

महाराष्ट्र फिर बना कोरोना कैपिटल: पिछले 24 घंटों में 26 हजार केस दर्ज, इस साल सबसे ज्यादा

by Sneha Shukla

[ad_1]

मुंबई: देश के कई राज्यों में जानलेवा कोरोनावायरस के मामले में एक बार फिर सामने आने लगे हैं। लेकिन सबसे ज्यादा प्रकोप महाराष्ट्र में है। महाराष्ट्र में एक बार फिर कोरोना कैपिटल बन गया है। यहां पिछले 24 घंटे में कोरोना के करीब 26 हजार नए केस दर्ज किए गए हैं, जो इस साल एक दिन में सबसे ज्यादा हैं। देश के दस सबसे ज्यादा मामले वाले जिलों में नौ जिले महाराष्ट्र के हैं।

24 हजार 886 मामलों का रिकॉर्ड पिछले साल 11 सितंबर का

महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोनावायरस संक्रमण के 25,833 नए मामले सामने आए। इन नए रोगियों को मिलाकर राज्य में संक्रमण के मामलों की कुल संख्या 23 लाख 96 हजार 340 हो गई है। बृहस्पतिवार को 58 मरीजों की मौत हो जाने के बाद राज्य में अबतक 53 हजार 138 लोग इस वायरस के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं। रोजाना 24 हजार 886 मामलों का रिकॉर्ड पिछले साल 11 सितंबर को सामने आया था।

राज्य में को विभाजित -19 की दूसरी लहर की शुरुआत हो चुकी है। केंद्रीय दल ने अपनी रिपोर्ट में ऐसा कहा था। अधिकारी ने बताया कि दिन के दौरान 12 हजार 764 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दी गई, जिससे स्वस्थ हुए लोगों की कुल संख्या 21 लाख 75 हजार 565 हो गई है। राज्य में इस समय एक लाख 66 हजार 353 मरीज उपचाराधीन हैं।

नागपुर शहर में दूसरे दिन कोरोना के सबसे अधिक मामले

नागपुर शहर में दूसरे दिन कोरोना के सबसे अधिक 2926 मामले सामने आए। इसके बाद मुंबई शहर में 2877 और पुणे में 2791 मामले दर्ज किए गए। मुम्बई में अबतक के सबसे अधिक नए मामले सामने आए हैं। आठ मरीजों की मौत हो जाने के साथ ही अबतक यहां 11,555 लोग इस संक्रमण से जान गंवा चुके हैं। शहर में पिछले साल सात सालूबबर को 2,848 मामले सामने आये थे, जो यहां इस संक्रमण के सिर उठाने के बाद सबसे थे।

… तो अप्रैल तक राज्य में तीन लाख मरीज उपचाराधीन होंगे!

इस बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने संभागीय आयुक्तों से कोरोना को फैलने से रोकने के लिए घोषित पाबंदियों का ककिंग से अनुपालन सुनिश्चित करने को कहा है। डिजिटल बैठक में ठाकरे ने कहा कि राज्य में रोजाना मामला बड़ा तेजी से बढ़े हैं लेकिन टीकाकरण अभियान ने भी जोर पकड़ी है। उन्होंने कहा, ” पिछले साल इस महामारी के आने के बाद बृहस्पतिवार को सबसे ज्यादा मामले के मद्देनजर जिला प्रशासन टाइपों के संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान की गति बढ़ाए, पाबंदियां और सुरक्षा नियम लागू करें। ” ठाकरे ने कहा कि रोजाना तीन लाख टीके। लक्ष्य हासिल करना चाहिए। स्वास्थ्य सचिव प्रदीप व्यास ने कहा कि अगर रोजाना मामलों में वृद्धि जारी हो रही है जो अप्रैल के पहले सप्ताह में राज्य में तीन लाख मरीज उपचाराधीन होंगे।

यह भी पढ़ें-

यूपी इलेक्शन ओपिनियन पोल: यूपी में योगी की वापसी होगी, या अखिलेश-मायावती मार सकते हैं बाजी? पढ़ें डेवलपर के नतीजे

कोरोना के बढ़ते मामले देख एमपी और महाराष्ट्र के बीच बस सेवा बंद, मध्य प्रदेश सरकार ने लिया फैसला



[ad_2]

Source link

Related Posts

Leave a Comment