Home » Gangaur 2021 Date: ये है गणगौर की सही तारीख, जानिए मान्यता, पूजा विधि व पूजन सामग्री लिस्ट
DA Image

Gangaur 2021 Date: ये है गणगौर की सही तारीख, जानिए मान्यता, पूजा विधि व पूजन सामग्री लिस्ट

by Sneha Shukla

[ad_1]

हिंदू धर्म में गणगौर पूजा का विशेष महत्व है। हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को गणगौर तीज मनाते हैं। इस दिन सुहागिनें पति की लंबी उम्र की कामना के लिए गणगौर माता यानी माता गौरा की विधि-विधान से पूजा करती है। गणगौर तीज का व्रत मुख्य रूप में मध्य प्रदेश और राजस्थान में मनाया जाता है। इस वर्ष गणगौर व्रत 15 अप्रैल को है। गणगौर व्रत सुहागिनों के साथ कुंवारी कन्याओं को भी उत्तम वर की प्राप्ति के लिए करती हैं।

गणगौर तीज शुभ मुहूर्त 2021-

गणगौर तीज पूजा 2021- 15 अप्रैल 2021 (गुरुवार)
गौरी पूजा आरंभ- 29 मार्च 2021 (सोमवार) से।
गौरी पूजा समाप्त- 15 अप्रैल (गुरुवार) से।
चैत्र शुक्ल पक्ष तृतीया तिथि आरंभ- 14 अप्रैल दोपहर 12 बजकर 47 मिनट से।
चैत्र शुक्ल पक्ष तृतीया तिथि समाप्त- 15 अप्रैल शाम 03 बजकर 27 मिनट तक।
गणगौर पूजा शुभ मुहूर्त- 15 अप्रैल को सुबह 05 बजकर 17 मिनट से 06 बजकर 52 मिनट तक।
कुल अवधि- 35 मिनट।

आज ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति अच्छी नहीं, ये दो राशि वाले बचकर पार करें समय, जानें कैसा रहेगा आपका दिन

गणगौर व्रत पूजा विधि-

गणगौर होलिका दहन के दूसरे दिन चैत्र कृष्ण प्रतिपदा से चैत्र शुक्ल तृतीया तक यानी 17 दिनों तक चलने वाले पर्व है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार माता गवरजा (माता पार्वती) होली के दूसरे दिन अपने पीहर आती हैं और आठ दिनों के बाद भगवान शिव (जोर जी) उन्हें वापस लेने के लिए आते हैं। फिर चैत्र शुक्ल तृतीया को उनकी विदाई होती है। होली के दूसरे दिन यानी कि चैत्र कृष्ण प्रतिपदा से सुहागिन महिलाएं और कुंवारी कन्याएं मिट्टी के शिव जी यानी की गणेश और माता पार्वती यानी की गौर बनाकर प्रतिदिन पूजन करती हैं। इन 17 दिनों में महिलाएं रोज सुबह उठ कर डोब और फूल चुन कर लाती हैं। उन दूबों से दूध के छींटे मिट्टी की बनी हुई गणगौर माता को खाती हैं। फिर चैत्र शुक्ल द्वितीया के दिन किसी नदी, तालाब या सरोवर पर जाकर अपनी पूजी हुई गणगौरों को पानी पिलाती हैं। दूसरे दिन यानी कि चैत्र शुक्ल पक्ष की तृतीया को शाम के समय उनकी विसर्जन कर रहे हैं। गणगौरों के पूजा स्थल गणगौर का पीहर और विसर्जन स्थल ससुराल माना जाता है। विसर्जन के दिन सुहागिनें सोलह श्रृंगार करती हैं और दोपहर तक व्रत रखती हैं।

बुध ने आज किया मीन राशि में गोचर, जानें इस राशि के परिवर्तन का आप पर क्या असर होगा

गणगौर व्रत पूजा सामग्री लिस्ट-

चौकी, तांबे का कलश, काली मिट्टी, श्रृंगार का सामान, चांदी की अंगुठी, होली की राख, गोबर या मिट्टी के कुंडे, गमले, मिट्टी का दीपक, कुमकुम, हल्दी, चावल, बिंदी, इनदी, गुलाल और अबीर, काजल, घी , फूल, आम के पत्ते, जल से भरे हुए कलश, नारियल, सुपारी, गणगौर के कपड़े, गेंहू और बांस की टोकरी, चुनरी, कौड़ी, सिक्के, पूड़ी, घेवर, हलवा आदि।



[ad_2]

Source link

Related Posts

Leave a Comment