Home » Garuda Purana: इन 5 कामों को करने वाला व्यक्ति हमेशा रहता है परेशान, पढ़ें गरुड़ पुराण में वर्णित मान्यता
DA Image

Garuda Purana: इन 5 कामों को करने वाला व्यक्ति हमेशा रहता है परेशान, पढ़ें गरुड़ पुराण में वर्णित मान्यता

by Sneha Shukla

गरुड़ पुराण: हिंदू धर्म में गरुड़ पुराण एक महत्वपूर्ण ग्रंथ है। भगवान विष्णु की भक्ति का इसमें विस्तार से वर्णन किया गया है। शास्त्रों के अनुसार, किसी भी व्यक्ति की मृत्यु के बाद यह पढ़ा जाता है। गरुड़ पुराण में व्यक्ति के जीवन से जुड़ी कई बातों का जिक्र किया गया है। बताया गया है कि उस व्यक्ति की कुछ गलतियाँ सौभाग्य को दुर्भाग्य में बदल देती हैं।

धन पर भारी कमी गरुड़ पुराण के अनुसार, इंसान को कभी भी पैसों पर घमंड नहीं करना चाहिए। अंहकार के कारण व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता कम होती जाती है। जिसके कारण वह दूसरों का अपमान करने लगता है। किसी भी व्यक्ति को नीचा दिखाना या अपमानित करना गरुण पुराण में पाप बताया गया है। धन पर घमंड करने वालों से माँ लक्ष्मी रुठ जाती हैं और ऐसे लोगों का धन नष्ट होने लगता है।

आज मासिक शिवरात्रि पर भगवान शंकर की इन 6 मुहूर्त में ना करें पूजा, नोट कर लें पूजा विधि

लालच की भावना- गरुड़ पुराण के अनुसार, दूसरों के धन को लेकर लालच करने वाले व्यक्ति कभी खुशहाल जीवन नहीं बिताते हैं। धन का लालच करना और दूसरों के धन को प्राप्त करने का प्रयास करना व्यक्ति को इस जन्म के साथ अगले जन्म तक संतुष्ट नहीं कर पाता है।

दूसरों को अपमानित करना- गरुड़ पुराण के अनुसार, किसी भी व्यक्ति को नीचा दिखाना या अपमानित करना सबसे बड़ा पाप होता है। निंदा करते समय बहुत व्यक्ति खुश होते हैं लेकिन वास्तव में वह अपना समय बर्बाद कर देते हैं। दूसरों को नीचा दिखाने वाले व्यक्ति कभी खुश नहीं रह पाते हैं।

2021-2026 तक इन राशि वालों पर शनि की साढ़े साती और ढैय्या का असर रहेगा, जानिए आने वाले पांच साल में शनि की स्थिति

गंदे वस्त्र धारण करना- गरुड़ पुराण के अनुसार, व्यक्ति को हमेशा साफ-सुथरे कपड़े पहनने चाहिए। मैले या गंदे कपड़े पहनने वालों पर मां लक्ष्मी कभी अपना आशीर्वाद नहीं बरसाती हैं। गंदे कपड़ों को दरिद्रता का प्रतीक माना जाता है। इसलिए व्यक्ति को हमेशा साफ-सफाई से रहना और स्वच्छ वस्त्र धारण करना चाहिए।

रात को दही का सेवन- गरुड़ पुराण के अनुसार, व्यक्ति को कभी भी रात में दही का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे सेहत गिरती है और व्यक्ति को शारीरिक कष्ट उठाना पड़ता है।

(इस आलेख में दी गई जानकारी धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जो केवल सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखते हुए प्रस्तुत किया गया है।)

Related Posts

Leave a Comment