Home » Garuda Purana: गरुड़ पुराण के अनुसार, इन 10 लोगों के घर भोजन करने से व्यक्ति होता है पाप का भागीदार
DA Image

Garuda Purana: गरुड़ पुराण के अनुसार, इन 10 लोगों के घर भोजन करने से व्यक्ति होता है पाप का भागीदार

by Sneha Shukla

सनातन धर्म में गरुड़ पुराण का विशेष महत्व है। इसमें भगवान विष्णु और पक्षी गरुड़ के बीच हुआ संवाद का वर्णन है। गरुड़ पुराण के माध्यम से नर्क, पाप, मृत्यु और धर्म आदि से जुड़ी कई बातों का ज्ञान प्राप्त होता है। गरुड़ पुराण में वर्णित बातों का अनुसरण करके जीवन को सुख-शांति से व्यतीत किया जा सकता है। इसी के अलावा गरुड़ पुराम में ऐसे 10 घरों का जिक्र किया गया है, जहां भोजन करने से व्यक्ति पाप का बोझ बनता है।

मान्यता है कि भोजन के माध्यम से व्यक्ति के विचार और उसके घर की ऊर्जा शरीर में जाती है। यदि ऊर्जा और विचार नकारात्मक विचार होंगे तो इसका असर व्यक्ति पर भी पड़ेगा। जानिए किन घरों में भोजन करना गरुड़ पुराण में माना जाता है

मिथुन और तुला के बाद अब इन दो राशियों पर शुरू होगा शनि ढैय्या, जानिए लक्षण और बचाव के उपाय

1. जो राजा अत्याचारी हो और अपनी प्रजा पर अत्याचार करता हो, उसके घर पर भोजन कभी नहीं करना चाहिए।

2. जिन लोगों को बेहद गुस्सा आता है, उनके घर पर भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए। कहा जाता है कि वरना ये गुण आप में भी आ सकते हैं।

3. किन्नरों हर तरह के लोगों से दान लेते हैं। ऐसे में उनके घर पर हर तरह का धन आता है। इसलिए गरुड़ पुराण में वर्णित है कि किन्नर के घर भोजन नहीं करना चाहिए।

4. किसी भी चोर या अपराधी के घर पर भोजन करने से नकारात्मक ऊर्जा शरीर में प्रवेश करती है। इससे विचार भी दूषित होते हैं। ऐसे में इन लोगों के घर पर भोजन नहीं करना चाहिए।

5. गरुड़ पुराण के अनुसार, चरित्र हीन स्त्री या पुरुष के घर भोजन नहीं करना चाहिए। ऐसा भोजन आपको पाप का अवसर बनाता है।

ये तीन राशि वाले आमतौर पर पाते हैं कि सरकारी नौकरी है, उच्च पद प्राप्त है

6. जो लोग दूसरों को परेशानी में डालते हैं और स्पष्ट करते हैं, ऐसे लोगों के घर पर भोजन करने से बचना चाहिए।

7. जिन लोगों के घर में बीमारी हो सकती है, उनके घर पर बैक्टीरिया आदि हो सकते हैं। ऐसे लोगों के घरों में भोजन नहीं करना चाहिए।

8. गरुड़ पुराण के अनुसार, जिन लोगों में दया का भाव नहीं हो और वह दूसरों पर अत्याचार करते हों, ऐसे लोगों के घर पर भोजन करने से व्यक्ति पाप का नोटिस बनता है।

9. जो लोग रिश्वत आदि लेते हैं, उनके घर पर भोजन करने गरुड़ पुराण में अच्छा नहीं माना गया है। ऐसी कमाई को पाप की कमाई कहा जाता है। ऐसे लोगों के घर भोजन करने से बचना चाहिए।

10. गरुड़ पुराण के अनुसार नशीली चीजों का सेवन करने वालों के घर पर भोजन नहीं करना चाहिए। ऐसे लोग स्वयं के साथ दूसरों का घर भी बर्बाद कर देते हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारी धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जो केवल सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखते हुए प्रस्तुत किया गया है।)

Related Posts

Leave a Comment