Home » वैक्सीन की मांग पर राज्यों के आरोप से स्वास्थ्य मंत्री नाराज, बोले- यह संकीर्ण राजनीति
DA Image

वैक्सीन की मांग पर राज्यों के आरोप से स्वास्थ्य मंत्री नाराज, बोले- यह संकीर्ण राजनीति

by Sneha Shukla

देश में जारी आपदा के बीच टीके की कमी कोन्‍द्र केंद्र और राज्य सरकारें आमने- एं-नेट है। उनका कहना है कि उन्हें प्रयाप्त संख्या में टीके नहीं मिल रहे हैं। इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने कहा है कि राज्यों के ये आरोप सरकार के समग्र दृष्टिकोण को नुकसान पहुंचाता है और जनता में संकीर्ण राजनीतिक जुनून पैदा करता है। स्वास्थ्य मंत्री की स्थिति की समीक्षा करें। ये सभी प्रकार के तूफान से अप्रत्याशित होते हैं।

बैठक के दौरान सभी राज्यों की आम मांग वाले राज्यों के लिए टीकों का कोटा बढ़ाने की थी। 1 मई 18 से 44 साल के आयु वर्ग के लोग, राज्य टीके की कमी वाले लोग हैं। ️ चूंकि️ चूंकि️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️. दिल्ली, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान में खराब भोजन के कारण खराब होते हैं।

मिनिस्टर ने कहा कि इसकी क्षमता को नियंत्रित किया जा सकता है और इसकी बैटरी की क्षमता के लिए टीकों की खरीद के लिए गैरसरकारी चैनल भी हैं। गैर-सरकारी केंद्र द्वारा, उन्होंने राज्यों कोके निर्माताओं के लिए सीधे टीके लगाने की अनुमति देने की केंद्र की नई रणनीति का उल्लेख किया। बैठक में उपस्थित स्वास्थ्य मंत्रियों ने मंत्री से विदेशी निर्माताओं से टीकों की खरीद के लिए एक आम नीति बनाने का अनुरोध किया।

स्वास्थ्य मंत्री के बयान के विपरीत, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को कहा कि विदेशी वैक्सीन निर्माताओं से संपर्क करने वाला प्रत्येक राज्य दुनिया में भारत की छवि को खराब करता है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन खरीदने की इस दौड़ में राज्यों को एक दूसरे के खिलाफ खड़ा किया गया है। विदेशी टीके प्राप्त करने वाले राज्य में स्थायी रूप से।

संबंधित खबरें

Related Posts

Leave a Comment