Home » भारत रतन का प्रतीक किसके समान है? | bharat ratna ka pratik kiske saman hai
bharat ratna ka pratik kiske saman hai

भारत रतन का प्रतीक किसके समान है? | bharat ratna ka pratik kiske saman hai

bharat ratna ka pratik kiske saman hai | bharat ratna puraskar ki list

by aman

नमस्कार दोस्तों, किसी भी भारतीय के लिए भारत रतन एक सबसे बड़ा सम्मान होता है। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि भारत रतन का प्रतीक किसके समान है, यदि आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है, तथा इसके बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए इच्छुक हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं, कि भारत रतन का प्रतीक किसके समान है, इसके अलावा हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट में शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाला है, तो इसको अंत तक जरूर पढ़िए।

भारत रतन का प्रतीक किसके समान है?

भारत रतन का प्रतीक पीपल के पान के समान होता है। दोस्तों भारत रतन हमारे देश का सबसे बड़ा रतन माना जाता है तथा यह पुरस्कार किसी भी व्यक्ति के जीवन का सबसे बड़ा पुरस्कार होता है। आज तक बहुत ही कम लोगों को भारत रत्न से सम्मानित किया गया है। इस भारत रत्न की शुरुआत 2 जनवरी सन 1954 के अंतर्गत हमारे देश के पहले राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद जी ने की थी।

यह भारत रत्न सम्मान असाधारण राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। जो व्यक्ति भारत देश की राष्ट्रीय सेवा के अंतर्गत अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है तथा अपने आपको भारत देश के लिए समर्पित कर देता है, उस व्यक्ति को यह भारत रत्न पुरस्कार दिया जाता है।

अब तक कितने भारत रत्न दिए जा चुके हैं ?

अगर दोस्तों बात की जाएगी अब तक कितने लोगों को यह भारत रत्न पुरस्कार दिया जा चुका है तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि यह पुरस्कार अब तक लगभग 45 लोगों को दिया जा चुका है। जिनकी सूची निम्न है :-

 वर्ष                         नाम
1954 डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
1954 चक्रवर्ती राजगोपालाचारी
1954 डॉ. चन्‍द्रशेखर वेंकटरमण
1955 डॉ. भगवान दास
1955 सर डॉ॰ मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या
1955 पंडित जवाहर लाल नेहरु
1957 गोविंद वल्लभ पंत
1958 डॉ॰ धोंडो केशव कर्वे
1961 डॉ॰ बिधन चंद्र रॉय
1961 पुरूषोत्तम दास टंडन
1962 डॉ॰ राजेंद्र प्रसाद
1963 डॉ॰ जाकिर हुसैन
1963 डॉ॰ पांडुरंग वामन काणे
1966 लाल बहादुर शास्त्री
1971 इंदिरा गाँधी
1975 वराहगिरी वेंकट गिरी
1976 के. कामराज
1980 मदर टेरेसा
1983 आचार्य विनोबा भावे
1987 खान अब्दुल गफ्फार खान
1988 एम जी आर
1990 डॉ॰ भीमराव आंबेडकर
1990 नेल्सन मंडेला
1991 राजीव गांधी
1991 सरदार वल्लभ भाई पटेल
1991 मोरारजी देसाई
1992 मौलाना अबुल कलाम आज़ाद
1992 जे. आर. डी. टाटा
1992 सत्यजीत राय
1997 ऐ. पी. जे. अब्दुल कलाम
1997 गुलजारी लाल नंदा
1997 अरुणा आसफ अली
1998 एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी
1998 सी. सुब्रामनीयम
1998 जयप्रकाश नारायण
1999 पंडित रवि शंकर
1999 अमर्त्य सेन
1999 गोपीनाथ बोरदोलोई
2001 लता मंगेशकर
2001 उस्ताद बिस्मिल्ला ख़ां
2008 पंडित भीमसेन जोशी
2014 सी॰ एन॰ आर॰ राव
2014 सचिन तेंदुलकर
2015 अटल बिहारी वाजपेयी
2015 मदन मोहन मालवीय

भारत रत्न की डिजाइन

पहले भारत रत्न के डिजाइन में 35 मिमी का गोलाकार स्वर्ण पदक था और उस पर सूर्य था। जिस पर हिंदी में भारत रत्न लिखा हुआ था और नीचे की तरफ माल्यार्पण था। इसके पीछे राष्ट्रीय चिन्ह और वाक्य लिखा हुआ था। इसके बाद रत्न बदलते समय तांबे के पीपल के पत्ते पर प्लेटिनम का चमकता हुआ सूरज बनाया गया। इसके नीचे चांदी में भारत रत्न लिखा हुआ है।

भारत रत्न के साथ कौन सी सुविधाएं मिलती है?

इस पुरस्कार को पाने के बाद विजेता को प्रोटोकॉल में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, उपप्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीश, लोकसभा स्पीकर, कैबिनेट मंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री, पूर्व राष्ट्रपति, पूर्व प्रधानमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री, संसद के दोनों सदनों में विपक्ष के नेता के बाद जगह मिलती है।

भारत रत्न पुरस्कार की राशि कितनी होती है?

भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित व्यक्ति को भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च सम्मान दिया जाता है। भारत रत्न प्राप्त करने वाले व्यक्ति को एक प्रमाण पत्र के साथ एक पदक दिया जाता है। इस सम्मान के साथ किसी भी प्रकार की कोई राशि नहीं दी जाती है।

सबसे कम उम्र में भारत रत्न प्राप्त करने वाले कौन हैं?

सचिन तेंदुलकर: वह एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं। वह भारत रत्न (उम्र 40) के सबसे कम उम्र के प्राप्तकर्ता हैं। उन्हें साल 2014 में भारत रत्न मिला था।

Also read:

आज आपने क्या सीखा

तो आज भी इस आर्टिकल के माध्यम से आपने जाना की भारत रतन का प्रतीक किसके समान है, हमने आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी दी है।

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई है तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया सीखने को मिला है। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई तो, इसे सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा नीचे कमेंट में इस विषय के बारे में हमें अपनी राय जरूर दें।

Related Posts

Leave a Comment