Home » BSNL यूजर्स हो जाएं अलर्ट! ऐसे SMS खाली कर सकते हैं आपके बैंक अकाउंट में जमा सारा पैसा
DA Image

BSNL यूजर्स हो जाएं अलर्ट! ऐसे SMS खाली कर सकते हैं आपके बैंक अकाउंट में जमा सारा पैसा

by Sneha Shukla

ऑफलाइन फ्रॉड (ऑनलाइन धोखाधड़ी) से अपने ग्राहकों को बचाने के लिए सरकारी टेलिकॉम कंपनी बीएसएनएल ने एक चेतावनी जारी की है। बीएसएनएल यह समीक्षा देश में एसएमएस फ्रॉड्स को लेकर है। बीएसएनएल ने ग्राहकों को जानकारी दी है कि धोखाधड़ी करने वाले जालसाज, ग्राहकों से एसएमएस के माध्यम से संपर्क कर रहे हैं और उन्हें बता रहे हैं कि अगर उन्होंने केवाईसी की प्रक्रिया पूरी नहीं की तो उनका बीएसएनएल सिम डीएक्टिवेट कर दिया जाएगा। इसके साथ ही कंपनी ने ये भी बताया है कि फ्रॉडस्टर्स एसएमएस के जरिए केवाईसी डिटेल्स लेते हैं और फिर उनके बैंक से पैसे चुप्पीते हैं। आइए जानते हैं कि पूरा मामला क्या है।

ये भी पढ़ें: – WhatsApp से सिर्फ एक मेसेज कर सेकंड्स में बुक करें गैस सिलेंडर, जानिए नंबर और तरीका

इस तरह से प्रेषित किया जा रहा है फर्जी एसएमएस
यह फर्जी एसएमएस CP-SMSFST, AD-VIRINF, CP-BLMKND, और BP-ITLINN जैसे हेडर्स के साथ भेजे जाते हैं। बीएसएनएल ने साफ कहा है कि ये मेसेज कंपनी की तरफ से नहीं भेजे जा रहे हैं तो ऐसे ऐसे मेसेज से बचकर रहें। कंपनी ने आगे कहा कि मैसेजेज कंपनी की तरफ से नहीं भेजा जा रहा है इसलिए वे नजरअंदाज किया वरना आपके बैंक खाते से आपका सारा पैसा चुराया जा सकता है।

सरकार और बीएसएनएल ने इस समस्या से निपटने के लिए ये उपाय निकाला
एसएमएस फ्रॉड को रोकने के लिए सरकार और टेलिकॉम कंपनियों ने नया एसएमएस टेम्पलेट लागू किया है। नए एसएमएस टेम्प्लेट ब्लॉकचेन तकनीक की मदद से चलेगा। अब कोई भी मेसेज जो एक वेरीफाईड कंपनी सेंगी उसे सरकार द्वारा आसानी से चला गया हैडर और फादर टेम्पलेट का पालन करना होगा।

ये भी पढ़ें: – गुम या चोरी हो गई है आधार कार्ड

नए सिस्टम के आने से कम एसएमएस फ्रॉड होंगे
इस नए सिस्टम के आने से एसएमएस फ्रॉड कम होंगे, क्योंकि वे एसएमएस जिसको कंपनी वेरिफाई नहीं कर पाएगी वो मेसेज ब्लॉक हो जाएंगे और ग्राहकों तक नहीं पहुंच पाएंगे। कंपनी ने ग्राहकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि अपनी कोई व्यक्तिगत जानकारी और फोन पर आए ओ CPC को किसी के भी साथ शेयर नहीं करें। और यदि आपके पास कोई फेक या फ्रॉड एसएमएस आता है तो आप उसकी टेलिकॉम कंपनी या संबंधित अधिकारियों को शिकायत कर सकते हैं।

Related Posts

Leave a Comment