Home » साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ
साइकिल का आविष्कार किसने किया || Newsindiaguru.com

साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ

by aman

आज हम आपके लिए फिर से एक नई पोस्ट लेकर आए हैं कि “साइकिल का आविष्कार किसने किया”। हम आपको इस लेख में कई जानकारियां देने जा रहे हैं, जिन्हें पढ़कर आप हमारे वैज्ञानिकों के योगदान की आगे की खोज के बारे में जानेंगे।

साइकिल का आविष्कार किसने किया?

सबसे पुरानी साइकिलें लकड़ी से बनी थीं और लगभग 200 साल पहले बनाई गई थीं। इस वाहन का निर्माण 12 जून 1817 को कार्ल वॉन ड्रेस द्वारा किया गया था। कार्ल वॉन एक प्रसिद्ध जर्मन वैज्ञानिक थे जिन्होंने साइकिल के अलावा कई उपकरणों का आविष्कार किया था।

वर्ष 1812 में कार्ल ने एक ऐसा वाद्य यंत्र बनाया जो कागज के माध्यम से पियानो संगीत को रिकॉर्ड कर सकता था। पहला कीबोर्ड टाइपराइटर का आविष्कार साल 1821 में हुआ था, साल 1827 में उन्होंने 16 अक्षरों वाली स्टेनोग्राफ मशीन भी बनाई और इसके अलावा दुनिया की पहली मीट ग्राइंडर यानी मिनिंग मशीन भी उन्हीं की देन है।

कार्ल वॉन की साइकिल बिना पैडल के बनी थी और लकड़ी की बनी थी। इस साइकिल का वजन करीब 23 किलो था। पैडल न होने के कारण यह साइकिल धक्का देकर चलाई जाती थी। लेकिन उस समय के लिए यह किसी वरदान से कम नहीं था। उस समय, कार्ल ने जर्मनी के दो शहरों, राइनाउ और मैनहेम में पूरे शहर में इसे चलाकर अपनी साइकिल का प्रदर्शन किया। यह साइकिल एक घंटे में करीब 7 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती थी।

साइकिल का आविष्कार कैसे और कब हुआ

दरअसल, साल 1815 में इंडोनेशिया में स्थित माउंट तंबोरा ज्वालामुखी में भीषण विस्फोट हुआ था, जिससे राख के बादल पूरी दुनिया में फैल गए थे। इससे दुनिया भर के देशों में तापमान में तेज गिरावट आई, इसका सबसे ज्यादा असर उत्तरी गोलार्ध के उन देशों पर पड़ा जहां पूरी फसल नष्ट हो गई।

फसलों के नष्ट होने से भुखमरी जैसी स्थिति पैदा हो गई थी, जिसके कारण बड़ी संख्या में घरेलू मवेशियों की मृत्यु हो गई क्योंकि उस समय घरेलू मवेशियों का उपयोग परिवहन और माल के लिए किया जाता था। ऐसे में उनकी मौत को देखते हुए मवेशियों का सामान ले जाने के विकल्प के तौर पर साइकिल का आविष्कार किया गया.

साइकिल का आविष्कार किसने किया था

शुरुआत में साइकिल सिर्फ लकड़ी की बनी होती थी, जिसमें न तो पैडल होते थे और न ही इसे चलाने के लिए गियर होते थे, एक व्यक्ति को इसे धक्का देना पड़ता था, साथ ही हाथों को सहारा देने और साइकिल को गाइड करने के लिए एक हैंडल भी लगाया जाता था। .

कार्ल वॉन ड्रैस (Karl Von Drais) द्वारा बनाई गई लकड़ी की साइकिल का वजन 23 किलोग्राम था, अपने आविष्कार को दुनिया के सामने लाने के लिए, उन्होंने 12 जून 1817 को जर्मनी के मैनहेम और राइनाउ के दो शहरों के बीच गाड़ी चलाकर इसे जनता के सामने प्रदर्शित किया। इस दौरान 7 किलोमीटर की दूरी तय करने में एक घंटे से ज्यादा का समय लगा।

भारत में साइकिल का आविष्कार कब हुआ

अब अगर हम बात करें कि भारत में साइकिल कब आई, तो आपको बता दें कि भारत में साइकिल का निर्माण 1942 में हिंद साइकिल नाम की कंपनी ने शुरू किया था। पहले भारत में कोई साइकिल नहीं बनती थी।

पहले भारत में साइकिल का आयात दूसरे देशों से किया जाता था। लेकिन जब मुंबई की हिंद साइकिल कंपनी ने साइकिल का निर्माण शुरू किया तो लोगों ने स्वदेशी साइकिल का अधिक उपयोग करना शुरू कर दिया। इस समय चीन के बाद सबसे ज्यादा साइकिल भारत में बनती है।

साइकिल का इतिहास 

वैसे तो चक्र का इतिहास बहुत पुराना नहीं है, लेकिन यह एक ऐसा उपकरण है जिसकी पूरी दुनिया में काफी मांग है। दुनिया भर में हर साल 100 मिलियन से अधिक साइकिलें बेची जाती हैं।

चक्र का इतिहास 18वीं शताब्दी के अंत से शुरू हुआ था। 1816 में पेरिस में पहली साइकिल बनाई गई, जिसे हॉबी हॉर्स या वुडन हॉर्स के नाम से जाना जाने लगा। पेडल का आविष्कार 1865 ई. में हुआ था, जिसका श्रेय लेलेमेंट को जाता है।

चक्र का इतिहास यहीं समाप्त नहीं हुआ, लोगों की सोच के विपरीत इसकी मांग दिन-ब-दिन बढ़ती गई। इसे इस्तेमाल करने के बाद काफी थकान होती थी। इसलिए लोगों ने ऐसी डिवाइस बनाने में दिन रात मेहनत की ताकि उनका काम आसान हो सके।

अमेरिका, फ्रांस और इंग्लैंड जैसे देशों के कारीगरों ने 1872 ई. में चक्र के इतिहास को एक बदलते आकार को दिया। इसमें लोहे की पतली छड़ के पहिये लगे थे। इस समय साइकिल में दो पहिए थे। आगे का पहिया बड़ा था जबकि पिछला पहिया छोटा था। आगे के पहिये का व्यास 64 इंच था जबकि पीछे के पहिये का व्यास 12 इंच था।

भारत में साइकिल के इतिहास पर नजर डालें तो आजादी के बाद कई सालों तक साइकिल को परिवहन का मुख्य साधन माना जाता था। 1960 से 1990 तक भारत में शायद ही कोई ऐसा परिवार होगा जिसके पास साइकिल न हो।

चक्र का इतिहास इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि प्राचीन काल में सब्जियों और फसलों को बाजार तक ले जाने के लिए साइकिल का उपयोग किया जाता था। साथ ही दूध की आपूर्ति साइकिल से की जाती थी और डाक विभाग में डाकिया ज्यादातर साइकिल का ही इस्तेमाल करता था।

जैसे-जैसे समय बीतता गया, साइकिल का उपयोग कम होने लगा, साइकिल की जगह बाइक और कार ने ले ली।
2015 के बाद फिर से साइकिल की बिक्री बढ़ी है, आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में स्वस्थ रहने के लिए साइकिल का इस्तेमाल करना लगभग अनिवार्य हो गया है।

दुनिया की बात करें तो चीन में सबसे ज्यादा साइकिल का इस्तेमाल होता है, चीन के बाद भारत का नंबर आता है।

आधुनिक साइकिल का आविष्कार किसने किया?

अगर आज बाजार में आधुनिक साइकिलें देखने को मिलती हैं तो इसका श्रेय जॉन केम्प स्टारली को जाता है। इस ब्रिटिश आविष्कारक ने साल 1885 में साइकिल बनाई थी।

Related Posts

Leave a Comment