Home » गीता सहित पूरे महाभारत का मुख्य उद्देश्य क्या है?
geeta sahit pure mahabharat ka mukhya uddeshya kya hai

गीता सहित पूरे महाभारत का मुख्य उद्देश्य क्या है?

geeta sahit pure mahabharat ka mukhya uddeshya kya hai

by aman

दोस्तों, आज के इस लेख में हम महाभारत ग्रंथ के बारे में बात करेंगे। जिनको ऋषि वेद व्यास द्वारा लिखा गया था। इस महान ग्रंथ मे हमें कई सबक मिलते हैं जो किसी भी व्यक्ति को शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए समझना चाहिए।

आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि geeta sahit pure mahabharat ka mukhya uddeshya kya hai अगर आप भी महाभारत के मुख्य उद्देश्य को जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़िएगा।

महाभारत का सार (mahabharat ka saar)

महाभारत इतिहास में दर्ज सबसे लंबा युद्ध है। पांडवों और कौरवों के बीच एक महान लड़ाई लड़ी गई थी, जिसे हम महाभारत के नाम से जानते हैं। यह लड़ाई चचेरे भाइयों की थी जोकि सत्ता और एक महिला के कारण हुई। महाभारत युद्ध में जीत सत्य की ही हुई। सत्ता के इस लड़ाई में दोनों पक्ष एक दूसरे को केवल हराना ही नहीं बल्कि नष्ट करना चाहते थे। आगे हम देखेंगे कि मैं भारत से हमें क्या सीखना चाहिए?

महाभारत का युद्ध कितना लंबा चला? (Mahabharat ka yudh kitna lamba chala?)

युद्ध 12 साल (या स्रोत के आधार पर 13) तक चला जहां पहाड़ों, रेगिस्तानों, जंगलों और शहरों सहित कई अलग-अलग जगहों पर लड़ाई हुई। यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई नहीं जीता, तीनों भाइयों ने आपस में समान रूप से सत्ता साझा करने का फैसला किया। प्रत्येक भाई को आधा राज्य दिया गया और सब कुछ उनके बीच समान रूप से विभाजित किया गया।

कुल मिलाकर 18 बड़ी लड़ाइयाँ, 12 छोटी लड़ाइयाँ और 2 छोटी झड़पें हुईं। दोनों तरफ से हजारों सैनिक लड़ रहे थे और युद्ध से प्रभावित क्षेत्र में कम से कम चार करोड़ लोग रह रहे थे। ऐसा अनुमान है कि युद्ध के दौरान 100 मिलियन से अधिक लोग मारे गए थे।

गीता सहित महाभारत के क्या उद्देश्य हैं? (geeta sahit pure mahabharat ka mukhya uddeshya kya hai)

Mahabharat ka mukhya uddeshya kya hai

गीता सहित महाभारत से भी हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है जो हमें हमारे जीवन में उतारनी चाहिए।

अपने हितों के लिए लड़ना

महाभारत हमें सिखाता है कि अगर हर कोई अपने हितों के लिए लड़ने का फैसला करता है, तो कुछ भी अच्छा नहीं होगा। इससे पहले कि हम एक-दूसरे पर हमला करना शुरू करें, हमें समाधान खोजने के लिए मिलकर काम करना होगा।

चुनौतियों से कैसे लड़ें?

महाभारत में, हमने जाना की कैसे पांडवों ने कौरवों (कुरु) के राजा दुर्योधन को हराया। किसी को हराने का तरीका है उसकी कमजोरियों को समझना और फिर उसका इस्तेमाल उनके खिलाफ करना। व्यापार, खेल, रिश्तों आदि में आगे बढ़ने के लिए हमें हमेशा अपनी ताकत और कमजोरियों से अवगत रहना चाहिए। हमेशा अधिक कौशल और ज्ञान सीखते रहें और केवल भौतिक गुणों पर ध्यान केंद्रित न करें।

विभिन्न रणनीतियों का प्रयोग करें

महाभारत में हमने पढ़ा है कि कर्ण से लड़ते समय अर्जुन के पास कोई रणनीति नहीं थी। इसलिए कृष्ण ने उन्हें जीतने की कोई रणनीति दी। अगर हमें कोई लड़ाई या प्रतियोगिता जीतनी है तो हमारे पास एक रणनीति होनी चाहिए। आप हर चीज के लिए कभी भी एक रणनीति का इस्तेमाल नहीं कर सकते क्योंकि हर किसी की ताकत और कमजोरियां अलग-अलग होती हैं। यदि आपके पास कोई रणनीति नहीं है तो आप सफल नहीं होंगे।

तैयार रहें

यदि आप युद्ध की तैयारी सही ढंग से नहीं कर पाते हैं तो आप किसी भी जंग में हार जाएंगे। आप सोचते हैं कि आपके पास हर चीज के लिए समय है। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। जीवन अप्रत्याशित है इसलिए, तैयार रहने की कोशिश करें। भाग्य के भरोसे न रहें। भाग्य हमेशा के लिए नहीं रहता। सकारात्मक सोचें और सुनिश्चित करें कि आप किसी भी स्थिति के लिए तैयार हैं!

Also read:

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस लेख में हमने आपको geeta sahit pure mahabharat ka mukhya uddeshya kya hai इसके बारे में जानकारी दी है। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई है, तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई सवाल है तो वो भी आप हम से कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकते है।

FAQ

महाभारत का क्या महत्व है?

भारतीय संस्कृति में महाभारत का विशेष स्थान है। भारतीय सभ्यता और हिन्दू धर्म का जो सर्वांगीण चित्रण यहाँ मिलता है, वह अन्यत्र नहीं है। महाकाव्य स्वयं अपने बारे में कहता है – ‘यन्ना भारते तन भारते’ अर्थात जो महाभारत में नहीं है वह केवल भारतवर्ष में नहीं हो सकता।

महाभारत के रचयिता का क्या नाम है?

Vyasa

महाभारत से हमें क्या सीखने को मिलता है?

जो व्यक्ति लड़ना नहीं जानता, उस पर युद्ध थोपा जाएगा या वह पहले मारा जाएगा। यह बात श्री कृष्ण ने महाभारत में पांडवों को अच्छी तरह से सिखाई थी। पांडव अपने भाइयों के साथ युद्ध नहीं करना चाहते थे, लेकिन कृष्ण ने समझाया कि जब शांति से किसी मुद्दे का समाधान नहीं होता है, तो युद्ध ही एकमात्र विकल्प है।

Related Posts

Leave a Comment