Home » शमी पत्र किसे कहते हैं? और कहां पाया जाता है?
shami patra kya hai

शमी पत्र किसे कहते हैं? और कहां पाया जाता है?

शमी पत्र कैसा होता है? | sami ka paudha kaisa hota hai

by aman

दोस्तों, आयुर्वेद के अंतर्गत कई ऐसे महान पेड़-पौधों के नाम संस्कृत भाषा शब्दावली के अंतर्गत लिखे गए हैं, जिन्हें समझना आज के समय थोड़ा मुश्किल हो जाता है। लेकिन फिर भी लोग उन्हें समझने का प्रयास करते हैं, क्योंकि उन से होने वाले फायदे, लोगों को उनकी वर्षों पुरानी बीमारियों से भी निजात दिलाने में सक्षम होते हैं।

उसी प्रकार एक वृक्ष का नाम शमी पत्र है, और आयुर्वेद के संदर्भ में शमी पत्र काफी महत्वपूर्ण है। शमी पत्र से धार्मिक आस्थाएं भी जुडी हुई है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि Shami patra kya hota hai? या शमी पत्र कहां पाया जाता है? शमी पत्र के क्या फायदे हैं? यदि आप नहीं जानते और जानना चाहते हैं तो आज के लेख में हमारे साथ अंत तक बने रहिएगा। तो चलिए शुरू करते हैं:-

शमी पत्र किसे कहते हैं? | shami patra kise kahate hain?

shami patra images

शमी पत्र का पौधा | shami ka ped kaisa hota hai

दोस्तों, शमी पत्र का अर्थ शमी वृक्ष के पत्ते होते हैं। पत्तों को संस्कृत भाषा में पत्र कहा जाता है, और शमी यहां पर एक वृक्ष का नाम है, जो आमतौर पर रेगिस्तानी इलाकों में या जहां पर पानी कम मात्रा में उपलब्ध होता है, ऐसे स्थान पर पाया जाता है।

इसकी शाखाएं अत्यंत मजबूत और वर्षा आने के पश्चात इसके पत्ते अधिक हरे रंग के हो जाते हैं। वर्षा होने के पश्चात जितने हरे रंग के पत्ते शमी वृक्ष के होते हैं, उतने हरे रंग के पत्ते तो किसी भी वृक्ष के नहीं देखे जाते हैं। यह आज के समय राजस्थान के लगभग सभी जिलों में पाई जा सकते हैं। इसे और भाषा में खेजड़ी का वृक्ष कहा जाता है।

खेजड़ी का वृक्ष लोगों की जुबान पर ही रहता है। इसके पत्तों का उपयोग करने का उपयोग और जड़ों का उपयोग आयुर्वेदिक औषधि के रूप में किया जाता है।

खेजड़ी के वृक्ष के अंतर्गत कई प्रकार की धार्मिक आस्थाएं भी जुडी हुई होती है। इसके अलावा खेजड़ी की लकड़ी का उपयोग फर्नीचर बनाने में किया जाता है, क्योंकि यह टूटने में अटेंड तो मुश्किल होती है इसे तोड़ना काफी कठिन होता है।

शमी पत्र कहां पाया जाता है? | shami patra kaha paya jata hai in hindi

शमी पत्र, शमी वृक्ष पर पाया जाता है। हालांकि यह सवाल अपने आप में इस बोध को संबोधित करता होगा कि “शमी का वृक्ष कहां पाया जाता है?” दोस्तों जिस प्रकार शमी पत्र शमी के वृक्ष पर पाया जाता है, तथा खेजड़ी के वृक्ष पर खेजड़ी के पत्ते पाए जाते हैं। उसी प्रकार खेजड़ी का पेड़ भी आमतौर पर ऐसे स्थानों पर पाया जाता है जहां पर पानी कम मात्रा में उपलब्ध हो।

क्योंकि खेजड़ी की जड़ें अत्यंत गहरी होती है, और खेजड़ी के वृक्ष को उखाड़ ना अपने आप में एक चुनौती होती है। कई बार क्रेन की सहायता से भी शमी के पेड़ को काटना पसीने ला देता है। शमी का विस्तार या खेजड़ी का वृक्ष आज के समय राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, पंजाब ऐसे इलाकों में अधिक पाया जाता है।

इसके अलावा यह भारत के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में और दक्षिणी क्षेत्र में आसानी से प्राप्त हो सकता है। लेकिन भारत के पूर्वी इलाकों में खेजड़ी के वृक्ष बहुत कम पाए जाते हैं।

क्योंकि वहां पर पानी की  कमी देखी नहीं जाती है। भारत के पूर्वी क्षेत्र में यह उत्तर पूर्व क्षेत्र में और दक्षिण पूर्वी इलाकों में पानी कीकभी देखी नहीं जाती है, जिसके कारण यहां पर यह वृक्ष काफी कम देखे जाते हैं। खेजड़ी के वृक्ष पर कांटे भी पाए जाते हैं जो कि काफी नुकीले होते हैं, और इस पेड़ की पत्तियां बकरियों का सबसे बेहतरीन भोजन होती है।

शमी के वृक्ष का महत्व क्या है? | shami ke ped ka kya mahatva hai

शमी के वृक्ष का अपने आप में काफी अधिक महत्व है। आमतौर पर पूरे भारत में सावन के महीने में जब भगवान शिव की पूजा की जाती है, तब इस पूजा विधि में शिवलिंग का अभिषेक भी किया जाता है, जिसके साथ यहां पर बेलपत्र मदार के फूल और शमी के पत्ते भी चढ़ाए जाते हैं।

भगवान शिव को सभी के पत्ते अधिक पसंद होते हैं, इसके साथ ही शमी के पुष्प भी भगवान शिव को अर्पित किए जाते हैं। भारत के पौराणिक कथाओं में और भारत के ग्रंथों में भी शमी के वृक्ष का अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान बताया गया है। साथ ही साथ यहां पर शमी के वृक्ष धार्मिक आस्था भी जुड़ी हुई है।

शमी पत्र के क्या फायदे हैं? | shami patra ke kya fayda kya hai

  • शमी प्रक्रिया खेजड़ी के पेड़ के पत्र के धार्मिक महत्व तो है ही लेकिन इसके औषधीय उपयोग भी काफी अधिक होते हैं। इसके पत्तों का काढ़ा बनाकर बुखार शांत करने में उपयोग किया जाता है साथ ही इसके पत्तों को पीसकर जब माथे पर पेस्ट की तरह लगाया जाता है, तब बुखार उतर जाता है।
  • इसकी छाल कृमि नाशक होती है, जिस पर कीड़े नहीं लगते।
  • उच्च रक्तचाप में रमेश की बीमारी में त्वचा रोग में वात पित्त के प्रकोप से बचने के लिए खेजड़ी की पत्तियों का और खेजड़ी के वृक्ष का उपयोग किया जाता है।
  • इसके अलावा दाद खाज खुजली और एक्जिमा में भी गोमूत्र के साथ मिलाकर इसका उपयोग किया जाता है।
  • पीलिया के रोग में इसका काढ़ा पिया जाता है।
  • फोड़े फुंसियों में भी इसके उपयोग किए जाते हैं।
  • इसके लिए इसके पत्तियों का पेस्ट बनाकर फोड़े पर लगाया जाता है।
  • प्रमेह रोग में, गर्भपात रोकने के लिए, श्वेत प्रदर की बीमारी में, धातु रोग में, पित्त प्रकोप में, अपच की बीमारी में, दांतो के दर्द में, बिच्छू के काटने पर, शमी की पत्तियों का और शमी के वृक्ष का उपयोग किया जाता है।

शमी पत्र का साइंटिफिक नाम क्या है? | shami patra ka scientific name kya hai

शमी पत्र अर्थात शमी के वृक्ष का साइंटिफिक नाम Prosopis Cineraria है।

निष्कर्ष

दोस्तों, आज के लेख में हमने आपको यह बताया है कि शमी का पौधा कैसा होता है? (shami ka paudha kaisa hota hai) इसके अलावा शमी वृक्ष के बारे में हमने आपको और भी कई प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराई है जोकि आपके लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण है।

हम आशा करते हैं कि आज का हमारा यह लेख पढ़ने के पश्चात आप यह समझ गए होंगे कि sami patra kaisa hota hai, शमी पत्र के क्या उपयोग है और शमी पत्र का साइंटिफिक नाम क्या है।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। यदि आप कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं। हमें आपके सवाल का जवाब देकर बहुत खुशी होगी।

Related Posts

Leave a Comment