Home » आज भंडारा कहाँ हो रहा है ? – Aaj Bhandara Kahan Ho Raha Hai
Aaj Bhandara Kahan Ho Raha Hai

आज भंडारा कहाँ हो रहा है ? – Aaj Bhandara Kahan Ho Raha Hai

by Pritam Yadav

Bhandara Kahan Ho Raha Hai :- मित्रों आज से कुछ वर्ष पूर्व सूचनाओं को अदान – प्रदान करने में काफी समय लगता था, लेकिन नयी- नयी तकनीकियों के आ जाने से जीवन काफी सरल हो चुका है, हम सभी के बीच एक ऐसी ही तकनीकी है, जिसे हम हर चीज सर्च करने के लिए प्रयोग में लाते है और वह तकनीकी है गूगल, जी हाँ हम अपनी अधिक से अधिक समस्यों को गूगल सर्च इंजन से हल करते है।

लेकिन दोस्तों क्या गूगल हमें हर प्रकार की जानकारियां उपलब्ध करा सकता है, यह सवाल आज भी कई लोगों का प्रश्न है और इसी प्रश्न का हल आपको इस आर्टिकल में बताया जायेगा क्योकि दोस्तों हमने जब गूगल में Bhandara Kahan Ho Raha Hai सर्च किया तो हमें कुछ इस प्रकार की जानकारी मिली।


क्या गूगल Bhandara Kahan ho raha hai बता सकता है ?

दोस्तों गूगल पर हमे वही जानकरी पढ़ने को मिलती है, जिसे गूगल पर upload किया जाये, भंडारा एक धार्मिक अनुष्ठान है, जिसकी जानकारी लोगों को खुद ब खुद मिल जाती है, इसलिए वर्तमान में हो रहे भंडारे की जानकारी अगर आप गूगल पर सर्च करे रहे, तो आपको वर्तमान में चल रहे भंडारे की जानकारी गूगल पर नहीं मिलने वाली है।

अब आप यह सोच रहे होंगे, कि अगर गूगल आपको भंडारे की जानकारी नहीं दे सकता है, तो आपको भंडारे की पूरी जानकारी कहाँ से मिलेगी तो दोस्तों आपके इस सवाल का जवाब भी हमारे पास है, तो आइये जानते है, कि भंडारे की जानकारी कैसे प्राप्त होगी ?


भंडारे की खबरें

अगर आप Bhandara Kahan Ho Raha Hai गूगल पर सर्च करेंगे तो आपको देश – विदेश में हो चुके भण्डारों की खबरे पढ़ने को मिलेगी और इन खबरों में आपको भंडारे की विशषताएं पढ़ने को मिलेगी, जिसके कारण ये भंडारे चर्चा का विषय बने।

दोस्तों हम जानते है आप यहां भंडारे की लोकेशन से जुडी जानकारी पाने के लिए आये है, जोकि आपको आर्टिकल में जरूर बताई जाएगी पर मित्रो अगर आप किसी भंडारे का प्रसाद ग्रहण करने जा रहे है, तो इसके बारे में और इसके महत्व के बारे में एक बार जरूर पढ़ लेना चाहिए तो आइये समझते है भंडारे की शुरुआत कैसे हुई ?


भंडारे का इतिहास

प्राचीन काल में लोग दान- पुण्य को बहुत ज्यादा महत्व देते थे, बड़े – बड़े राजाओं और महाराजाओं द्वारा हर धार्मिक अनुष्ठान पर प्रजा में भोजन, वस्त्र और धन का दान दिया जाता था और तभी से यह परम्परा आज भी हम सभी के बीच प्रचलित है, हिन्दू शास्त्रों में अन्न दान को “महादान” कहा गया है।

पद्दपुराण की एक पौराणिक कथा के अनुसार – विदर्भ के राजा श्वेत अपनी कठोर तपस्या के कारण ब्रम्हलोक लोक में गए थे, जहाँ उन्हें भोजन का एक कण भी खाने को नहीं मिला, जब उन्होंने जगतपिता ब्रम्हा जी से इस बारे में पूछा तो उन्होंने बताया, कि तुमने अपने जीवन में कभी भी अन्न दान नहीं किया इसलिए तुम्हें यहां भोजन प्राप्त नहीं हुआ।

तबसे लोगों की यह मान्यता है, कि जीवित रहते हुए जितना अधिक अन्न दान गरीबो में किया जायेगा मृत्यु बाद ब्रम्हलोक में उन्हें भूखा नहीं रहना पड़ेगा।

यह बात तो रही भंडारे के इतिहास से लेकिन दोस्तों भंडारे का महत्व हर इंसान के लिए बहुत मायने रखता है आपको भी एक बार इसके महत्व पर अपनी नजर डालनी चाहिए।


भंडारे का महत्व

भंडारे का महत्व हर व्यक्ति के लिए बहुत मायने रखता है, इसे लोग भोजन नहीं बल्कि प्रसाद के रूप में ग्रहण करते है, भंडारे के भोजन का एक तिनका पाकर ही लोग अपने आपको भाग्यशाली समझते है।

मित्रो भंडारा सिर्फ हिन्दू धर्म ही नहीं बल्कि अन्य धर्मो में भी प्रचलित है जैसे सिक्खों में लंगर, मुस्लिमों में दावत आदि।

दोस्तों आपके मन में अब एक प्रश्न जरूर आ रहा होगा, कि ऐसे कौन से व्यक्ति है जिन्हें Bhandara ki jankari की जरुरत सबसे अधिक होती है।


भंडारे की जानकारी की जरूरत किसे और क्यों

भारत में आज भी कई ऐसी परिवार है, जिन्हे 1 वक्त की रोटी नसीब नहीं होती है, ऐसे में अगर कही भंडारा आयोजित होता है, तो इन परिवारों के लिए यह ऐसा अवसर होता है, जिसमें भंडारा खाकर वे अपने पेट की भूख को कम कर पाते है ।

इसके अलावा बड़े बड़े शहरों में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थिओ को टिफ़िन सर्विसेज का खाना खाकर ही अपना पेट भरना होता है, ये बच्चे अक्सर भंडारे के खाने का इंतजार किया करते है ताकि इन्हें कुछ अलग खाने को मिल सके।

अब तक आपको इस आर्टिकल में भंडारे से जुडी कई खास जानकारियों को जानने का मौका मिला पर अभी तक आपको Bhandara near me  की जानकारी नहीं मिली तो दोस्तों आपका इंतजार खत्म अब जानेंगे की गूगल हमे भंडारे की जानकारी दे पायेगा या नहीं आइये जानते है विस्तार से इस जानकारी के बारे में।


Bhandara ki jankari kaise milegi

दोस्तों अगर आप जानना चाहते है, कि भंडारा कहां हो रहा हो इसके लिए आपको पने आस पास के मंदिरो की ओर रुख करना पड़ेगा क्योंकि अधिकतर मंदिरो में होने वाले भंडारों की जानकारी बैनरों के द्वारा प्रकाशित की जाती है, ये बैनर आपको मंदिरो के आस पास ही देखने को मिल जायेंगे।

भारत में अधिकतर भंडारे ज्येष्ठ के बड़े मंगल, सावन के सोमवारों , नवरात्री के नवमी और दशमी के दिन, किसी मंदिर की प्राणप्रतिष्ठा , हवन , यज्ञों पर आयोजित किये जाते है। आप इन दिनों में जाकर बड़ी आसानी से भंडारे में मिलने वाले प्रसाद पा सकते है।

अगर आपका मन आज ही भंडारा खाने का है तो आप नजदीकी गुरूद्वारे जाकर वहाँ हो रहे भंडारे (लंगर ) का लुफ्त उठा सकते है।


निष्कर्ष :

अपने इस आर्टिकल के दवारा जाना कि अगर हम गूगल पर Bhandara Kahan ho raha hai सर्च करते है, तो इसकी सटीक जानकारी हमे प्राप्त नहीं होती है और आपने ये भी जाना कि भंडारे के बारे में पता करने के लिए आपको क्या करना चाहिए।

देखा दोस्तों आपने बातो ही बातों में अपनी सारी समस्या का हल पा लिया दोस्तों हम आशा करते है, आपको ऐसी नयी नयी जानकारियों से रूबरू करते रहेंगे।


FAQ’S:

प्रश्न 1क्या गूगल Bhandara Kahan ho raha hai बता सकता है ?

उत्तर - नहीं, यह आपको वर्तमान में हो रहे किसी भंडारे की जानकारी नहीं दे सकता लेकिन, 
अगर कोई भविष्य में होने वाले किसी भंडारे की जानकरी को अपडेट करता है तो यह जानकरी 
गूगल से प्राप्त की जा सकती है।

प्रश्न 2भंडारा का किन महीनो में ज्यादातर आयोजित किये जानते है ?

उत्तर - हिन्दू धर्मो में भंडारे सावन के सोमवारों,ज्येष्ठ के बड़े मंगलो, नवरात्री के नवमी में 
अधिक आयोजित किये जाते है।

प्रश्न 3भंडारे में ज्यादातर किन भोज्य पदार्थो का प्रसाद लोगों में दिया जाता है ?

उत्तर - भंडारे में शाकाहारी भोजन के हर प्रकार के भोज व्यंजनों का भोग लगाया जाता है,
सबसे ज्यादा भंडारे में कद्दू की सब्जी - पूरी, मीठी बूंदिया, मिक्स सब्जी, हलवा, खीर 
आदि का प्रसाद दिया जाता है।

प्रश्न 4बड़े मंगलो में सबसे ज्यादा किस पेय पदार्थ को प्रसाद के रूप में दिया जाता है ?

उत्तर - बड़े मंगल अक्सर मई या जून के महीनो में पड़ते है ऐसे में लोगों के शरीर में पानी 
की मात्रा बनी रहे इसलिए शर्बतों का भोग लगाकर इसे लोगो के बीच बांटा जाता है।

प्रश्न 5भंडारे के जानकारी पाने के लिए सबसे सरल उपाय क्या है ?

उत्तर - भंडारे की जानकारी पाने के लिए आप मंदिरो के पास लगने वाले बैनरों पर ध्यान दे सकते है, 
इनमें अक्सर भंडारे की जानकारी दी जाती है।

Read Also :-

Related Posts

Leave a Comment